आरबीआई का बड़ा फैसला, अब आप सिर्फ इतने देर ही शेयर मार्केट में ट्रेडिंग कर सकते हैं

0
487

भारतीय रिज़र्व बैंक ने एक अभूतपूर्व कदम में, बॉन्ड और विदेशी मुद्रा दोनों के लिए बाजार के कारोबार के घंटे में चार घंटे की कटौती की। कोविद-19 के प्रकोप के कारण देशव्यापी लॉकडाउन से उत्पन्न होने वाले संभावित परिचालन और रसद जोखिमों का हवाला दिया।

देश में संक्रमण के बढ़ते मामलों के बीच 25 मार्च से देश 21 दिनों के लॉकडाउन में चला गया। अब तक भारत को कोविद-19 के 2,300 से अधिक मामले आये हैं साथ ही कोरोनावायरस से 56 मौत भी हो गई हैं। आरबीआई ने कहा कि कोविद -19 के प्रकोप से पैदा हुई स्थिति से देश भर में लोगों की आवाजाही पर तालाबंदी, सामाजिक गड़बड़ी और प्रतिबंधों की आवश्यकता है।

परिणामी अव्यवस्थाओं ने वित्तीय बाजारों के कामकाज पर प्रतिकूल प्रभाव डाला है। आरबीआई ने विज्ञप्ति में कहा, परिचालन और लॉजिस्टिक जोखिमों को बढ़ाते हुए स्टाफ और आईटी संसाधनों को गंभीर रूप से प्रभावित किया गया है। गतिविधि का कम होना बाजार की तरलता को प्रभावित कर रहा है और वित्तीय कीमतों की अस्थिरता बढ़ा रहा है।

आरबीआई ने कारोबारी घंटे सुबह 10 बजे से दोपहर 2 बजे तक घटा दिए हैं। यह समय कटौती सभी बाजारों के लिए, जिनमें बॉन्ड, फॉरेक्स, विभिन्न रेपो जैसे मनी मार्केट और डेरिवेटिव भी शामिल हैं। आरबीआई ने कहा कि यह कारोबारी समय 7 अप्रैल से 17 अप्रैल तक प्रभावी रहेगा।